Latest Current Affairs in Hindi - करेंट अफेयर्स – 18 नवम्बर - Textnews1-Breaking News, Latest News In Hindi

Textnews1-Breaking News, Latest News In Hindi

Breaking News, Latest News From India And World Including Live News Updates, Current News Headlines On Politics, Cricket, Business, Entertainment And More Only On Textnews1.online.

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

2020-11-19

Latest Current Affairs in Hindi - करेंट अफेयर्स – 18 नवम्बर

Latest Current Affairs in Hindi - करेंट अफेयर्स – 18 नवम्बर

राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स
मालाबार अभ्यास : दूसरा चरण शुरू हुआ
17 नवंबर, 2020 को भारत, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और जापान की नौसेनाओं ने मालाबार अभ्यास के दूसरे चरण में भाग लिया। दुनिया के सबसे बड़े विमान युद्धपोत यूएसएस निमित्ज ने भी इस अभ्यास में भाग लिया।
Latest Current Affairs in Hindi,Current Affairs in Hindi,करेंट अफेयर्स,करेंट अफेयर्स  2020,current affairs 2020,monthly,Current Affairs,Current Affair


आर्थिक करेंट अफेयर्स
आरबीआई ने लक्ष्मी विलास बैंक को स्थगन के तहत रखा, निकासी को सीमित किया गया
17 नवंबर, 2020 को भारतीय रिज़र्व बैंक ने लक्ष्मी विलास बैंक को एक अधिस्थगन के तहत रखा। इसके अलावा, शीर्ष बैंक ने 25,000 रुपये पर ग्राहकों की निकासी को सीमित कर दिया है। यह 16 दिसंबर तक लागू होगा ।


क्रिस गोपालकृष्णन को रिजर्व बैंक इनोवेशन हब के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया
17 नवंबर, 2020 को, आरबीआई ने इन्फोसिस के सह-संस्थापक और पूर्व सह-अध्यक्ष क्रिस गोपालकृष्णन को रिज़र्व बैंक इनोवेशन हब का अध्यक्ष नियुक्त किया। इस हब का उद्देश्य एक इको-सिस्टम बनाना है जो वित्तीय सेवाओं और उत्पादों तक पहुंच को बढ़ावा देगा।

एल एंड टी ने इसरो के गग्यानन मिशन के बूस्टर सेगमेंट को डिलीवर किया
18 नवंबर, 2020 को लार्सन एंड टुब्रो ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के लिए गगनयान मिशन का पहला हार्डवेयर डिलीवर किया।

पीएम ने तीसरे वार्षिक ब्लूमबर्ग न्यू इकोनॉमी फोरम को संबोधित किया
17 नवंबर, 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यू इकॉनमी फोरम को संबोधित किया। इस फोरम का उद्देश्य क्रियाशील समाधानों के निर्माण में कार्यरत्त नेताओं के समुदाय का निर्माण करना है।

अंतर्राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स
संयुक्त राष्ट्र ने कोविड-19 टीकों के बारे में गलत सूचना का मुकाबला करने के लिए “टीम हेलो” लॉन्च की
UN ने लंदन विश्वविद्यालय में “द वैक्सीन कॉन्फिडेंस प्रोजेक्ट” के सहयोग से “टीम हेलो” लॉन्च की। इस पहल का उद्देश्य कोविड-19 टीकों के बारे ,गलत सूचनाओं का मुकाबला करना है।

भारत ने 12वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग लिया
17 नवंबर, 2020 को 12वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का आयोजन ‘BRICS Partnership for Global Stability, Shared Security and Innovative Growth’ विषय के तहत किया गया था।

भारत ने ढाका में मुजीब शताब्दी वर्ष के लिए विशेष संस्करण कलाई घड़ियों को लॉन्च किया
भारत ने 17 नवंबर, 2020 को मुजीब शताब्दी वर्ष (‘मुजीब बोरशो’) के लिए विशेष संस्करण कलाई घड़ियों की सीमित श्रृंखला लांच  की।

डेली करेंट अफेयर्स 2020 - करेंट अफेयर्स – 18 नवम्बर 2020


1. 6 महीने के संकुचन के बाद भारत के किस आर्थिक माप में 0.2% की वृद्धि दर्ज की गयी है?
उत्तर – औद्योगिक उत्पादन सूचकांक
भारत का औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) साल दर साल आधार पर सितंबर में 0.2 फीसदी बढ़ा है। छह महीने के लगातार संकुचन के बाद, आईआईपी ने विकास के सकारात्मक पक्ष में प्रवेश किया है। अगस्त महीने के दौरान, 7.36 प्रतिशत संकुचन दर्ज किया गया था। उपभोक्ता वस्तुओं, बिजली और खनन क्षेत्रों में रिकवरी दर्ज की गयी है।

2. किस देश ने COVID-19 आसियान रिस्पॉन्स फंड में 1 मिलियन अमरीकी डालर के योगदान की घोषणा की है?

उत्तर – भारत
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने COVID-19 आसियान प्रतिक्रिया कोष में 1 मिलियन अमरीकी डालर के योगदान की घोषणा की है। इस फंड की घोषणा 17वें आसियान-भारत शिखर सम्मेलन के दौरान की गई थी जिसे हाल ही में वर्चुअल मोड में आयोजित किया गया था। भारत ने आसियान कनेक्टिविटी का समर्थन करने के लिए 1 बिलियन डॉलर की लाइन ऑफ क्रेडिट के अपने पहले के प्रस्ताव की भी पुष्टि की।

3. व्हाट्सएप के बाद, किस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने गायब होने वाले संदेश की सुविधा शुरू की?

उत्तर – फेसबुक मैसेंजर
फेसबुक ने हाल ही में अपने मैसेंजर प्लेटफॉर्म में ‘वैनिशिंग मैसेज’ की सुविधा शुरू करने की घोषणा की है। व्हाट्सएप में संदेशों को गायब करने की एक समान सुविधा पहली बार पेश की गई थी। नए मोड के तहत, रिसीवर के अपनी चैट में पढ़ने और विंडो को बंद करने के बाद संदेश गायब हो जाएंगे। इस सुविधा को सेन्डर और रिसीवर दोनों को सक्रिय करना होगा।

4. तिनसुकिया, जहां ऑयल इंडिया ने प्राकृतिक गैस की खोज की, किस राज्य में स्थित है?

उत्तर – असम
भारत के दूसरे सबसे बड़े तेल उत्पादक ऑयल इंडिया लिमिटेड ने हाल ही में असम के तिनसुकिया में एक कुएं में प्राकृतिक गैस की खोज की है। संगठन द्वारा जारी बयान के अनुसार, ऊपरी असम बेसिन में तिनसुकिया में दीनजन-1 कुएं में 10 मीटर हाइड्रोकार्बन वाली वाली रेत पाई गई। यह खोज उन्हें असम में आगे तेल और गैस की खोज के लिए नए क्षेत्रों का पता लगाने में मदद करेगी।

भारत के दूसरे सबसे बड़े तेल उत्पादक ऑयल इंडिया लिमिटेड ने हाल ही में असम के तिनसुकिया में एक कुएं में प्राकृतिक गैस की खोज की है।



13 नवंबर (भाषा) देश की दूसरी सबसे बड़ी सरकारी तेल उत्पादक कंपनी ऑयल इंडिया लिमिटेड ने शुक्रवार को कहा कि उसने असम के तिनसुकिया में खोदे गये एक कुएं से प्राकृतिक गैस की खोज की है। कंपनी ने एक बयान में कहा, ‘‘इस खोज से असम में तेल एवं गैस की खोज के लिए नए क्षेत्र खुलेंगे और भविष्य की खोज व विकास गतिविधियों के साथ गैस उत्पादन को बढ़ाने में मदद मिलेगी।’’ ऑयल इंडिया लिमिटेड (ओआईएल) ने कहा कि ऊपरी असम बेसिन में तिनसुकिया पेट्रोलियम माइनिंग लीज (पीएमएल) में डिनजन -1 में हाइड्रोकार्बन का पता लगाया गया। इसमें कहा गया है कि इस कुएं में लगभग 10 मीटर हाइड्रोकार्बन के सम्मिश्रण वाली रेत की प्राप्ति हुई। परीक्षण करने पर, इससे प्रति दिन 1,15,000 मानक घन मीटर की दर से गैस का उत्पादन किया गया। ओआईएल, जिसका अधिकांश संचालन उत्तर-पूर्व में केंद्रित है, ने यह संकेत नहीं दिया कि खोजे गये भंडार में कितना गैस हो सकता है।

5. किस केंद्रीय मंत्रालय द्वारा PM KUSUM योजना को लागू किया जा रहा है?

उत्तर – नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय
केंद्रीय नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) ने प्रधानमंत्री उर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पीएम कुसुम) योजना शुरू की है। हाल ही में, मंत्रालय ने योजना के दिशा-निर्देशों में संशोधन किया है, अब सौर ऊर्जा संयंत्र किसानों की चरागाह भूमि और दलदली भूमि पर भी स्थापित किए जा सकते हैं। पहले, केवल बंजर, परती और कृषि भूमि का उपयोग सौर संयंत्रों को स्थापित करने के लिए किया जा सकता था।
केंद्रीय नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई) ने प्रधानमंत्री उर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पीएम कुसुम) योजना शुरू की है। हाल ही में, मंत्रालय ने योजना के दिशा-निर्देशों में संशोधन किया है, अब सौर ऊर्जा संयंत्र किसानों की चरागाह भूमि और दलदली भूमि पर भी स्थापित किए जा सकते हैं। पहले, केवल बंजर, परती और कृषि भूमि का उपयोग सौर संयंत्रों को स्थापित करने के लिए किया जा सकता था।



PM Kusum Yojana: केंद्र सरकार की प्रधान मंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (प्रधानमंत्री-कुसुम) योजना के नाम पर धोखाधड़ी की खबरें आई हैं. इस योजना को लेकर कुछ लोग गलत फायदा उठा रहे हैं और जरूरतमंदों से गलत तरीके से पैसे जुटा रहे हैं. असल में कुछ जालसाजों ने योजना के नाम पर फर्जी वेबसाइट बना ली है और पीएम-कुसुम योजना के लिए पंजीकरण पोर्टल होने का दावा किया है. ऐसी वेबसाइट सामने आने के बाद नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (MNRE) ने आम लोगों को सावधान किया है.

क्या है प्रधानमंत्री कुसुम योजना
नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (MNRE) द्वारा प्रधान मंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (प्रधानमंत्री-कुसुम) योजना को 2020 में ही शुरू किया गया है. केंद्र सरकार की इस योजना के जरिए किसान अपनी जमीन पर सोलर पंप और पंप लगाकर अपने खेतों की सिंचाई कर सकते हैं. केंद्र सरकार का लक्ष्य है कि इस योजना के तहत देशभर में सभी बिजली व डीजल से चलाए जाने वाले पंप को सोलर उर्जा से चलाया जा सके.

सरकार देती है 60 फीसदी तक अनुदान
इसके तहत कृषि पंपों के सौरीकरण के लिए सरकार की ओर से 60 फीसदी तक अनुदान दिया जाता है. इस योजना को राज्य सरकार के विभागों द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है जिसमें किसानों को केवल बाकी का 40 फीसदी ही विभाग को जमा करवाना होता है. इन विभागों का विवरण MNRE की वेबसाइट www.mnre.gov.in पर उपलब्ध है.

फर्जी वेबसाइट
योजना के शुभारंभ के बाद, यह देखा गया कि कुछ वेबसाइटों ने पीएम-कुसुम योजना के लिए पंजीकरण पोर्टल होने का दावा किया है. ऐसी वेबसाइट आम जनता को धोखा दे रही हैं और फर्जी पंजीकरण पोर्टल के माध्यम से उनसे रुपये तथा जानकारी जुटा रही हैं. आम जनता को किसी भी नुकसान से बचने के लिए, MNRE ने पहले 18.03.2019 को, उसके बाद 03.06.2020 को और पुनः 10.07.2020 को लाभार्थियों और आम जनता को ऐसी किसी भी वेबसाइटों पर रजिस्ट्रेशन फी नहीं जमा करने और अपनी जानकारी साझा करने से सतर्क रहने की सलाह दी थी.

क्या करें जरूरतमंद, क्या नहीं
MNRE का कहना है कि अपनी किसी भी वेबसाइट के माध्यम से योजना के तहत लाभार्थियों को रजिस्टर्ड नहीं करता है और इसलिए योजना के लिए MNRE की पंजीकरण वेबसाइट होने का दावा करने वाली कोई भी वेबसाइट भ्रामक और धोखाधड़ी है. किसी भी संदिग्ध धोखाधड़ी वाली वेबसाइट, अगर किसी के द्वारा देखी गई हो, तो उसे MNRE को तुरंत सूचित करें.

योजना में भागीदारी के लिए पात्रता और अन्य जानकारी MNRE की वेबसाइट www.mnre.gov.in पर उपलब्ध है. जरूरत है तो MNRE की वेबसाइट पर जा सकते हैं या टोल फ्री हेल्प लाइन नंबर 1800-180-3333 पर कॉल कर सकते हैं.

ये हैं ऐसी वेबसाइट
MNRE का कहना है कि ऐसी वेबसाइट की जानकारी मिलने पर उनके खिलाफ कार्यवाही की जाती है. हाल ही में देखा गया है कि कुछ नई वेबसाइटों (www.pmkusumyojana.co.in and www.punjabsolarpumps.com) ने अवैध रूप से पीएम-कुसुम योजना के लिए पंजीकरण पोर्टल का दावा किया है. इसलिए सभी संभावित लाभार्थियों और आम जनता को सलाह दी जाती है कि इन वेबसाइटों पर रुपया या जानकारी जमा करने से बचें. इसके अलावा समाचार पत्रों को भी डिजिटल या प्रिंट प्लेटफॉर्म पर प्रकाशित करने से पहले सरकारी योजनाओं के लिए पंजीकरण पोर्टल होने का दावा करने वाली वेबसाइटों की प्रामाणिकता की जांच करने की सलाह दी गई है.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Bottom Ad

पेज