UPSC एग्जाम पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला: 4 अक्टूबर को होने वाली UPSC प्रिलिम्स परीक्षाएं नहीं टलेंगी - Textnews1-Breaking News, Latest News In Hindi

Textnews1-Breaking News, Latest News In Hindi

Breaking News, Latest News From India And World Including Live News Updates, Current News Headlines On Politics, Cricket, Business, Entertainment And More Only On Textnews1.online.

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

2020-10-01

UPSC एग्जाम पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला: 4 अक्टूबर को होने वाली UPSC प्रिलिम्स परीक्षाएं नहीं टलेंगी

UPSC एग्जाम पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला: 4 अक्टूबर को होने वाली UPSC प्रिलिम्स परीक्षाएं नहीं टलेंगी

UPSC एग्जाम पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला: 4 अक्टूबर को होने वाली UPSC प्रिलिम्स परीक्षाएं नहीं टलेंगी, सरकार को लास्ट अटेम्प्ट वाले कैंडिडेट्स को एक और मौका देने को कहा


4 अक्टूबर को 72 शहरों में आयोजित होने वाली 7 घंटे की ऑफलाइन परीक्षा में लगभग छह लाख कैंडिडेट्स बैठेंगे....

सुप्रीम कोर्ट ने सिविल सेवा (प्रिलिम्स) परीक्षा 2020 पर बुधवार को बड़ा फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा कि 4 अक्टूबर को होने वाले ये परीक्षाएं कोविड महामारी के कारण नहीं टाली जा सकतीं।कोर्ट ने केंद्र सरकार को इस बात पर विचार करने को कहा है कि ऐसे कैंडिडेट़्स को एक और मौका दिया जा सकता है जिनके पास अपना आखिरी अटेम्प्ट बचा है और जो कोरोना के कारण परीक्षा में नहीं बैठ पाएंगे।

जस्टिस एएम खानविल्कर की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने UPSC सिविल सेवा 2020 की परीक्षाओं को 2021 की परीक्षाओं के साथ मिलाकर करवाने की याचिका भी खारिज कर दी। देश के 72 शहरों में होने वाली 7 घंटे की ऑफलाइन परीक्षा में लगभग छह लाख उम्मीदवारों के शामिल होने की उम्मीद है।

UPSC ने भी किया था विरोध

इस मामले अर्जी लगाने वाले कैंडिडेट्स ने मौजूदा हालात के चलते परीक्षाएं टालने की मांग की थी। इस पर सुनवाई के दौरान सोमवार को UPSC ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि सिविल सेवा की परीक्षाओं को टालना असंभव है। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने UPSC को इस हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया था।

UPSC के हलफनामा और सुप्रीम कोर्ट के फैसले की बड़ी बातें

आखिरी प्रयास करने वाले उम्मीदवारों को परीक्षा में न बैठ पाने की स्थिति में एक और मौका मिलेगा।
आयु सीमा के लिहाज से इस साल परीक्षा में न बैठ पाने वाले कैंडिडेट्स को आयु सीमा में छूट मिलेगी।
UPSC को स्वास्थ्य मंत्रालय के SOP के हिसाब से जरूरी उपाय करने होंगे और सभी को उसकी सूचना देनी होगी।
खांसी और जुकाम वाले उम्मीदवारों को परीक्षा में अलग कमरों में बैठाने की व्यवस्था करनी होगी।
अलग-अलग राज्यों में वहां के हालात को देखते हुए अलग-अलग SOP लागू किए जाएं।
कैंडिडेट्स को उनके एडमिट कार्ड के आधार पर होटलों में प्रवेश की अनुमति मिलेगी।
अन्य उम्मीदवारों को खतरा न हो इसके लिए कोरोना से संक्रमित रोगी को परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं होगी।

इससे पहले कोर्ट ने 24 सितंबर को याचिकाकर्ताओं की ओर से पक्ष रख रहे वकील अलख आलोक श्रीवास्तव से कहा था कि वे याचिका की एक कॉपी UPSC और केंद्र को दें। देश के अलग-अलग हिस्सों के 20 याचिकाकर्ताओं ने अदालत से कहा कि मौजूदा हालात में परीक्षा आयोजित करने से उम्मीदवारों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को खतरा होगा।
upsc cse exam date 2020,what is upsc cse,upsc interview date 2020,upsc prelims result 2019

याचिकाकर्ताओं ​​​​​​ की दलील

याचिकाकर्ताओं ने यह भी कहा कि कोरोना के तेजी से फैल रहे मामलों के बाद भी UPSC ने परीक्षा केंद्रों की संख्या नहीं बढ़ाई। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों के कई कैंडिडेट्स को करीब 300-400 किलोमीटर का सफर करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। याचिका में कहा गया था कि परीक्षा केंद्रों तक पहुंचने के लिए ऐसे कैंडिडेट्स पब्लिक ट्रांसपोर्ट की इस्तेमाल करेंगे, जिससे उनके संक्रमित होने की ज्यादा आशंका है।

CSAT - UPSC Prelims GS II - CSAT Syllabus And Strategy

The full form of CSAT is the Civil Services Aptitude Test. It was introduced in the year 2011 as a part of the UPSC Civil Services Exam (Preliminary) to test the analytical skills, reasoning ability and aptitude of IAS aspirants.

In this comprehensive guide to the CSAT exam, we have covered the following topics:


  1. CSAT
  2. CSAT Exam Pattern And CSAT Syllabus 2020
  3. Download CSAT Question Papers (2014-2019)
  4. CSAT Trend Analysis (2011 – 2019)

While the controversy over the introduction of CSAT, officially known as the General Studies Paper-II, in UPSC exam still continues, as per the UPSC notification released on February 12, 2020, the Civil Services Aptitude Test will continue to be a part of the UPSC Prelims.

The CSAT 2019 was conducted on June 2 and CSAT 2020 date will take place on October 4, 2020. Download the CSAT question paper from the link below:

CSAT

  • CSAT stands for Civil Services Aptitude Test. It is a part of the UPSC Prelims (Civil Services Exam – Preliminary). However, the Union Public Service Commission (UPSC) refers to the exam as General Studies (GS) Paper – II.
  • Hence, in the context of UPSC Prelims, GS Paper II refers to the CSAT while in context of UPSC Mains, GS Paper II is the Polity (etc.) paper.
  • Candidates are advised to understand the complete UPSC syllabus and the syllabus of CSAT in UPSC Prelims to avoid confusion.

What is Prelims exam in IAS?


The IAS Prelims/UPSC Prelims exam is the first stage of the Union Public Service Commission Civil Services Examination (CSE).

The UPSC CSE comprises three stages:


  1. Preliminary Exam – 2 objective type papers
  2. UPSC Mains – 9 theory papers
  3. IAS Interview

Check your eligibility for CSAT (UPSC Eligibility Criteria).

The two papers in the UPSC Prelims are:


  1. General Studies Paper – I
  2. General Studies Paper-II or CSAT

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Bottom Ad

पेज