ऑनलाइन कॉम्पिटीशन:केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय और NCERT ने शुरू किया ऑनलाइन निबंध कॉम्पिटीशन, 14 अगस्त तक करें अप्लाय - Textnews1-Breaking News, Latest News In Hindi

Textnews1-Breaking News, Latest News In Hindi

Breaking News, Latest News From India And World Including Live News Updates, Current News Headlines On Politics, Cricket, Business, Entertainment And More Only On Textnews1.online.

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

2020-08-10

ऑनलाइन कॉम्पिटीशन:केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय और NCERT ने शुरू किया ऑनलाइन निबंध कॉम्पिटीशन, 14 अगस्त तक करें अप्लाय

ऑनलाइन कॉम्पिटीशन:केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय और NCERT ने शुरू किया ऑनलाइन निबंध कॉम्पिटीशन, 14 अगस्त तक करें अप्लाय

इस कॉम्पिटीशन में कक्षा 9वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स ले सकते हैं भाग
‘आत्मनिर्भर भारत- स्वातंत्र भारत’ के तहत विभिन्न विषयों पर लिख सकते हैं निबंध

मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) ने मेरी सरकार (Mygov.in) और NCERT के साथ मिलकर स्कूली छात्रों के लिए स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ‘आत्मनिर्भर भारत- स्वतंत्र भारत’ के तहत एक निबंध प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा है। यह प्रतियोगिता ऑनलाइन आयोजित की जाएगी, जिसके लिए स्टूडेंट्स 14 अगस्त अपने निबंध भेज हैं।

9वीं- 12वीं तक स्टूडेंट्स ले सकते हैं हिस्सा

इस कॉम्पिटीशन में कक्षा 9वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स भाग ले सकते हैं। प्रतियोगिता का विषय ‘आत्मनिर्भर भारत- स्वातंत्र भारत’ सभी के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध एक मजबूत और सशक्त राष्ट्र के उद्भव को दर्शाता है।

वर्ड लिमिट

कक्षा 9-10 के लिए निबंध 500 शब्द सीमा के भीतर होना चाहिए, जबकि कक्षा 11 और 12 के लिए निबंध 800 शब्द सीमा के भीतर होना चाहिए। कैंडिडेट्स सिर्फ पीडीएफ फाइल फॉर्मेट में अपना निबंध वेबसाइट www.mygov.in पर जमा कर सकते हैं।

निबंध के लिए विषय:

आत्मनिर्भर भारत: भारतीय संविधान और लोकतंत्र सबसे बड़े हिमायती हैं
75 पर भारत: आत्मनिर्भर भारत की ओर बढ़ता राष्ट्र
एक भारत श्रेष्ठ भारत के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत: विविधता में एकता होने पर नवाचार पनपता है
आत्मनिर्भर भारत के लिए डिजिटल इंडिया: कोरोना के बीच अवसर
आत्मनिर्भर भारत - स्कूली बच्चे राष्ट्रीय विकास में कैसे योगदान दे सकते हैं?
आत्मनिर्भर भारत: अगामी लिंग, जाति और जातीय पक्षपात
आत्मनिर्भर भारत: बायो डाइवरसिटी और कृषि समृद्धि के माध्यम से एक नए भारत का निर्माण
जब मैं अपने अधिकारों का प्रयोग करता हूं, तो मुझे एक आत्मनिर्भर भारत में अपने कर्तव्यों का पालन करना नहीं भूलना चाहिए
मेरी शारीरिक तंदुरुस्ती ही मेरी दौलत है, जो आत्मानिभर भारत के लिए मानव पूंजी का निर्माण करेगी
एक आत्मनिर्भर भारत के लिए ब्लू टू गो ग्रीन का संरक्षण करें

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Bottom Ad

पेज